You are here: Homeखेल

दिल्ली के क्रिकेटर मोहित अहलावत ने टी-20 क्रिकेट में 300 रन जड़ कर इतिहास रच दिया| वह टी-20 क्रिकेट के किसी भी स्तर में यह कारनामा हासिल करने वाले पहले क्रिकेटर हैं| मोहित ने 72 गेंदों में 300 रनों की नाबाद पारी खेली| इस दौरान उन्होंने 39 छक्के और 14 चौके जड़े| 21 वर्षीय मोहित अहलावत ने यह कारनामा दिल्ली में आयोजित टी-20 टूर्नामेंट में मावी एकादश और फ्रेंड्स एकादश के बीच चल रहे मैच में हासिल की|

 

40 गज का मैदान !

हालांकि मोहित अहलावत ने जिस मैदान पर यह कारनामा वह किसी अंतरराष्ट्रीय मैदान से बहुत छोटा है, यही कारण है कि वह इतना बड़ा कारनामा करने में सफल रहे| मोहित ने जिस मैदान पर यह कारनामा करा है उस मैदान की बाउंड्री सिर्फ 40 गज की थी जो कि अंतरराष्ट्रीय मैदान से छोटी है|

कितना बड़ा होता है अंतरराष्ट्रीय मैदान ?

एक औसतन अंतरराष्ट्रीय मैदान की बाउंड्री की लंबाई लगभग 65 से 70 गज की होती है| वहीं किसी मैदान की बाउंड्री 75 गज की भी होती है| मैदान में इनर सर्किल 30 गज का होता है, जिसमें पावरप्ले के हिसाब से 4 या 5 खिलाड़ी होते हैं|

एमसीजी सबसे बड़ा मैदान

ऑस्ट्रेलिया का मेलबर्न क्रिकेट मैदान दुनिया का सबसे बड़ा मैदान है| एमसीजी दर्शकों की संख्या और बाउंड्री के हिसाब से भी सबसे बड़ा मैदान है| इस मैदान का खेलने का एरिया 172|9 मी|*147|8 मी| है, वहीं इसमें 1 लाख से अधिक दर्शक बैठ सकते हैं|

पाकिस्तानी ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी एक बार फिर टि्वटर पर कश्मीर का मुद्दा उठा कर बुरा फंस गए हैं| जिसके बाद फैंस ने टि्वटर पर उन्हें जमकर खिंचाई की| अफरीदी ने टि्वटर पर लिखा कि कश्मीर काफी लंबे समय से क्रूरता का शिकार हो रहा है, अब समय आ गया है कि हमें कश्मीर का मुद्दा सुलझाना चाहिए| अफरीदी ने लिखा कि कश्मीर जमीन पर जन्नत है, हम लोगों की अपील को अनदेखा नहीं कर सकते हैं|

कश्मीर पर इस ट्वीट के बाद लोगों ने अफरीदी को जमकर कोसा और उनकी खूब खिंचाई की|

इससे पहले वर्ल्ड टी20 2016 में शाहिद अफरीदी ने कश्मीर का मुद्दा उठाया था| मोहाली मैच में मैच प्रेजेंटेशन के दौरान उन्होंने कहा था कि यहां बहुत से लोग हमारा समर्थन करने कश्मीर से आये हैं| मैं सभी का धन्यवाद करना चाहता हूं|

रिटायर्मेंट के बाद सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग कम ही साथ दिखाई देते हैं. दोनों सुपर स्टार के बीच होने वाली बातचीत क्रिकेट मैचों के दौरान मीडिया कमिटमेंट्स की वजह से छिपी रह जाती है. लेकिन इस बार सचिन दिल्ली आए, तो सहवाग के साथ उन्हों्ने वक्तज भी बिताया. जिसका पता उनके फैंस को चल गया.

सहवाग ने ट्विटर पर ‘भगवान के दर्शन’ होने की जानकारी दी है. वीरू ने थोड़ी ब्लोर फोटो को पोस्ट किया था, जिस पर सचिन ने ट्वीट कर उनसे कहा- अरे सहवाग, थोड़ी देर रुक जाता, तो इस फोटो को इस्तेमाल कर लेता. तुझसे मिलने में मजा आता है. जिसका सहवाग ने अपने अंदाज में जवाब दिया- हा-हा-हा हमेशा से ही जल्दीे में रहा हूं गॉड जी. जो भी आपसे मिलता है, खुश हो जाता है.

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट, फिर वनडे और अब टी-20 सीरीज पर कब्जा जमाने के बाद टीम इंडिया ने टीम होटल में जमकर जश्न मनाया. इस दौरान टीम इंडिया ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को क्रिकेट जगत में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया. इस दौरान टीम के कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली समेत टीम के सभी सदस्य मौजूद रहे.

धोनी के बारे में बोलते हुए कोच कुंबले ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी के एक सच्चे और साहसी कप्तान थे , वह टीम के खिलाड़ियों के लिए प्रेरणास्त्रोत बताया. वहीं कुंबले ने भारतीय क्रिकेट को सफलता की नई ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए धोनी का धन्यवाद किया.

बंगलुरु टी-20 मैच में टीम इंडिया को शानदार जीत दिला लेग स्पिनर यजुवेंद्र चहल पूरे देश की नजरों में हीरो बनकर उभरे हैं| चहल की शानदार गेंदबाजी के दम पर ही भारत ने इंग्लैंड को 127 रनों पर ढेर कर दिया|

 

मैच जीतने के बाद यजुवेंद्र चहल ने कहा उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह कभी 6 विकेट ले पाएंगे| उन्होंने कहा कि उन्हें बेहद खुशी है कि उन्होंने यह कारनामा बंगलुरु के मैदान पर किया है, यहां खेल कर उन्हें घर जैसा लगता है| चहल आईपीएल में बंगलुरु टीम के लिए खेलते हैं|

 

यजुवेंद्र चहल ने कहा कि वह पहले भी आईपीएल में पावरप्ले में गेंदबाजी करते आएं है, कप्तान कोहली ने मुझमें विश्वास दिखाया यही कारण था कि मैं शुरुआती 6 ओवर में भी गेंदबाजी कर पाया|

 

बंगलुरु टी-20 में यजुवेंद्र चहल ने 25 रन देकर 6 विकेट लिए थे| चहल अंतरराष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट में एक पारी में 5 से ज्यादा विकेट लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज हैं| वहीं श्रीलंकाई गेंदबाज अंजता मेंडिस के बाद चहल दूसरे गेंदबाज हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट में एक पारी में 6 विकेट लिए हैं|

नई दिल्ली: ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या 16 से 18 फरवरी तक ब्रेबोर्न स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाले तीन दिवसीय अभ्यास मैच में भारत ए की अगुआई करेंगे.

टीम में कई युवा खिलाड़ियों को शामिल किया गया है जिन्होंने रणजी ट्रॉफी में प्रभावी प्रदर्शन किया. इसमें शीर्ष स्कोरर गुजरात के प्रियांक पांचाल, सेना के बल्लेबाज जी राहुल सिंह शामिल हैं. राहुल ने ग्रुप सी में 72 से अधिक की औसत से 945 रन बनाए.

 

चयनकर्ताओं ने दूसरी बार स्पष्ट किया कि इशान किशन को भविष्य में लंबे प्रारूप में विकेटकीपर के तौर पर तैयार किया जा रहा है जबकि ऋषभ पंत को इस वर्ग में बल्लेबाज के रूप में देखा जा रहा है.

 

बाबा इंद्रजीत को लगातार अच्छे प्रदर्शन की बदौलत टीम में जगह मिली है जबकि दिल्ली के खिलाफ नाबाद 351 और कुल 687 रन बनाने वाले महाराष्ट्र के अंकित बावने भी टीम का हिस्सा हैं.

 

दिल्ली के युवा तेज गेंदबाज नवदीप सैनी और तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज को भी टीम में शामिल किया गया है. मुंबई के सलामी बल्लेबाज अखिल हेरवादकर और श्रेयष अय्यर को भी टीम में जगह मिली है.

 

कर्नाटक के आफ स्पिनर कृष्णाप्पा गौतम और चाइनामैन कुलदीप यादव स्पिन विभाग में जिम्मेदारी संभालेंगे जबकि रणजी सत्र में सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले शाहबाज नदीम टीम में उनका साथ देंगे.

 

टीम इस प्रकार है: भारत ए: हार्दिक पंड्या (कप्तान), अखिल हेरवादकर, प्रियांक पांचाल, श्रेयस अय्यर, अंकित बावने, ऋषभ पंत, इशान किशन, शाहबाज नदीम, कृष्णाप्पा गौतम, कुलदीप यादव, नवदीप सैनी, अशोक डिंडा, मोहम्मद सिराज, राहुल सिंह और बाबा इंद्रजीत.

नई दिल्ली: क्रिकेट के खेल का रोमांच यही है। नागपुर के वीसीए ग्राउंड पर मैच देखने पहुंचे दर्शकों के लिए यह वाकई पैसा वसूल मैच रहा। मैच के आखिरी ओवर में जसप्रीत बुमराह ने करिश्माचई गेंदबाजी करते हुए इंग्लैंैड के खेमे से जीत छीन ली। मैच में ज्याकदातर समय इंग्लैं ड की जीत तय नजर आ रही थी, क्रिकेटप्रेमियों से तो यह अंदाज लगाना शुरू कर दिया था कि इंग्लैं ड कितने ओवर में भारत की ओर से दिए गए 145 रन के लक्ष्य तक पहुंच पाता था। बहरहाल, आखिरी के क्षणों में भारतीय गेंदबाजों ने संयमित प्रदर्शन किया और दबाव में अपने खेल को बिखरने नहीं दिया।

 

यही कारण रहा कि जीत की ओर बढ़ रहे इंग्लैंeड के कदम डगमगाने लगे। चौथे विकेट के लिए जो रूट के साथ बेन स्टोlक्सह ने 52 रन की साझेदारी के बाद 17वें ओवर में स्टो क्से के आउट होने से भारत को राहत मिली, लेकिन इसके बाद भी इंग्लैं ड की जीत लगभग तय लग रही थी। यहीं से भारतीय गेंदबाजों ने इंग्लैंकड के आगे के बल्ले बाजों पर लगाम कस दी। (यह भी पढ़ें- आशीष नेहरा, जसप्रीत बुमराह ने दिलाई रोमांचक जीत, टीम इंडिया ने सीरीज में 1-1 से बराबरी की)

 

जसप्रीत बुमराह जब अंतिम यानी 20वां ओवर करने आए तो इंग्लैंsड को आठ रन की जरूरत थी और चार विकेट ही गिरे थे। तारीफ करनी होगी बुमराह की। गुजरात के इस गेंदबाज के इस ओवर में महज दो रन बने और इंग्लैंहड के जो रूट और जोस बटलर के रूप में इंग्लैंसड के दो अहम विकेट गिरे। नजर डालते हैं आखिरी ओवर के इस रोमांच पर।।।

 

20वां ओवर, गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, इंग्लैं ड को आठ रन की जरूरत

पहली गेंद : जो रूट के खिलाफ एलबीडब्यूैंड की जोरदार अपील। अम्पा/यर ने फैसला टीम इंडिया के पक्ष में दिया, इंग्लै"ड का स्को र 137/4

दूसरी गेंद : बुमराह की गेंद पर नए बल्ले्बाज मोईन अली ने एक रन लिया, स्को>र 138/4

तीसरी गेंद : बुमराने चतुराई से स्लोल ऑफ कटर फेंकी, बटलर इसे पढ़ नहीं सके, शॉट खेला लेकिन चूके, स्कोतर 138/4

चौथी गेंद : बुमराह की लेंथ बॉल, बटलर बोल्डy हुए, भारतीय जीत की उम्मीsदें परवान चढ़ीं, इंग्लैंोड का स्को:र 138/4

पांचवीं गेंद : बुमराह की गेंद पर जॉर्डन शॉट नहीं लगा पाए, बाय के रूप में एक रन मिला, इंग्लैंeड का स्कोपर 139/4

छठी गेंद: जीत के लिए आखिरी गेंद पर छह रन की जरूरत थी, बुमराह की गेंद पर मोईन अली ने बल्ला् घुमाया लेकिन शॉट मिस कर गए, कोई रन नहीं बना, इंग्लैंjड का स्कोरर 139/4, टीम इंडिया ने पांच रन से मैच जीत लिया।

लोकप्रिय

 

नागपुर टी20 : वीरेंद्र सहवाग ने आशीष नेहरा को दिया नया नाम, बताया दूध का किस्सा जिसे सुनकर हंस पड़ेंगे आप

 

INDvsENG नागपुर टी-20 : भारत की जीत में अंपायर की भूमिका।।?

 

यूपी को राहुल गांधी-अखिलेश यादव का साथ पसंद है, मगर मुलायम सिंह यादव को नहीं, पढ़ें क्या है वजह

संबंधित

INDvsENG नागपुर टी-20 : भारत की जीत में अंपायर की भूमिका।।?

INDvsENG T20 : आखिरी गेंद पर बुमराह ने ली थी आशीष नेहरा से सलाह और जीत लिया मैच।।।

INDvsENG : जामथा में पहली बार T20 में मिली टीम इंडिया को जीत, बने ये नए रिकॉर्ड

 

इंग्लैंड के खिलाफ ग्रीन पार्क स्टेडियम में खेले गए पहले टी-20 मैच में हारने के बाद भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि इंग्लैंड ने मेजबानों से बेहतर खेल दिखाया और वह जीत की हकदार थी| इंग्लैंड ने भारत को तीन टी-20 मैचों की श्रृंखला के पहले मैच में गुरुवार को सात विकेट से मात देते हुए 1-0 से बढ़त ली|

इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने 51 और जोए रूट ने 46 रनों की नाबाद पारी खेली| विराट कोहली ने मैच के बाद कहा, 'हां, निश्चित ही इंग्लैंड ने हमसे बेहतर खेल दिखाया| हम इस बात को कबूल करते हैं| गेंद से, बल्ले से और फील्डिंग में वह शानदार थे|'

 

भारतीय कप्तान ने कहा, 'इंग्लैंड ने आज उस तरह का प्रदर्शन किया जिसके लिए हम उन्हें जानते हैं| इसका पूरा श्रेय उनके गेंदबाजों को जाता है|' कोहली ने माना कि उनकी टीम को सीखना होगा कि जब विपक्षी टीम हावी हो तब कैसे खेलना चाहिए|

 

उन्होंने कहा, 'इंग्लैंड ने तेज शुरुआत की| कुछ चीजें ऐसी हैं जहां हमें काम करने की जरूरत है| हमें इस मैच में अपनी गलतियों से सीखना होगा| यह ऐसा प्रारूप है जिसमें आपको खेल का आनंद उठाना सीखना होगा और अपना सर्वश्रेष्ठ खेल खेलना होगा|'

 

इंग्लैंड के कप्तान मोर्गन ने जितने भी गेंदबाजों को लगाया सभी ने विकेट लिए| मेहमान टीम के गेंदबाज भारतीय बल्लेबाजों को रोकने में सफल रहे| भारत के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने उसके लिए 27 गेंदों में सर्वाधिक 36 रन बनाए| उनके अलावा स्थानीय खिलाड़ी सुरेश रैना ने 23 गेंदों में 34 रनों का योगदान दिया|

 

मैच के बाद इंग्लैंड के बल्लेबाज जोए रूट ने कहा, 'यह हमारे लिए अच्छा दिन था| मैच पर अपना प्रभाव छोड़ना अच्छा था| गेंद से हम लगातार विकेट लेते रहे और भारत पर दवाब बनाए रखा साथ ही साझेदारियां नहीं होने दीं|' रूट टीम की जीत में अपने योगदान से संतुष्ट दिखाई दिए| उन्होंने कहा, 'बल्ले से हमने अच्छा प्रदर्शन किया| हम जानते थे कि हमें जीतने के लिए एक बड़ी साझेदारी की जरूरत है| खासकर मुझसे| हमने ऐसा ही किया| इस आत्मविश्वास से खेलना अच्छा रहा|'

क्रिकेट क्रेज़ी देश मे जहां लोगों की रगों में क्रिकेट जूनून बन कर दौड़ता है ऐसे में एक क्रिकेट ऐसा भी जहां खेल वही है लेकिन अंदाज़ थोड़ा अलग है, पिच वही है लेकिन बल्ला और बॉल ज़रा अलग हट के, जोश और ज़ज़्बा वही लेकिन खिलाड़ी थोड़े अलग हैं. यहां बात हो रही है ब्लाइंड वर्ल्ड कप की, जिसके दूसरे टी 20 वर्ल्ड कप का आगाज 29 जनवरी से दिल्ली से होगा.

 

12 फरवरी तक चलने वाले इस टूर्नामेंट में पहला मैच मेज़बान टीम और वेस्टइंडीज के बीच खेला जाएगा. इस ब्लाइंड वर्ल्ड कप में कुल 11 टीमें हिस्सा ले रही हैं. बहुत कम लोग जानते हैं कि 2012 में पहली बार हुआ टी 20 वर्ल्ड कप इंडिया के नाम रहा. ज़ाहिर सी बात हैं वर्ल्ड चैंपियन के टाइटल को बचाने के लिए इन दिनों टीम इंडिया की तैयारी ज़ोरों पर है.

 

टीम के कोच पैट्रिक राजकुमार ने एक खास बातचीत में बताया कि सभी खिलाड़ियों को ट्रेन करना बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है, क्योंकि टेकनीक के साथ साथ उनके साथ बैठ कर कॉन्फिडेंस के साथ काम करना पड़ता है. इस खेल मे आँखों, कान, फीलिंग्स और बॉडी के साथ कोआर्डिनेशन करना पड़ता है. हर खिलाड़ी की ट्रेनिंग केटेगरी के हिसाब से अलग होती है जिसमे काफी ज़्यादा मल्टीटास्किंग करनी पड़ती है.

 

ब्लाइंड वर्ल्ड कप से जुड़े खिलाडियों की आंखों में भले ही रोशनी न हो लेकिन आसमान छूते इनके हौसलों में कोई कमी नहीं है तभी तो टीम के कप्तान को पूरी उम्मीद है कि इस बात का वर्ल्ड कप भी इंडिया ही जीतेगी. ब्लाइंड क्रिकेट टीम के कप्तान अजय कुमार रेड्डी ने बताया कि हम पूरी तरह से तैयार है, प्रेशर बस इस लिहाज से है कि हमे अपना वर्ल्ड चैंपियन का टाइटल डिफेंड करना है और दुनिया को बताना है कि हमारी पहली जीत बाए चांस नहीं थी. इस ब्लाइंड वर्ल्ड कप से लोगों के कई सारे डाउट क्लियर होंगे.

 

लोगों में इस ब्लाइंड स्पोर्ट्स को लेकर ज्यादा से ज्यादा जागरूकता आये इसलिए इस टूर्नामेंट को 12 शहरों में खेला जायेगा. ब्लाइंड एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी ने बताया कि पहले वर्ल्ड कप के सारे मैचे बंगलुरु में खेलें गए थे लेकिन इस बार पुणे, हैदराबाद, इंदौर, दिल्ली जैसे 12 शहरों में खेले जाएंगे. पाकिस्तान भी इस बार टूर्नामेंट का हिस्सा होगा.

 

इस बार का वर्ल्ड कप पिछली बार से बड़ा और बेहतर है'. इसमें कोई दो राय नहीं हैं कि ब्लाइंड क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों के जोश और ज़ज़्बे में कोई कमी नहीं है लेकिन ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, नेपाल जैसी टीमो के साथ मुक़ाबला कर के क्या एक बार फिर ये खिलाडी टी 20 वर्ल्ड कप अपने नाम कर पाएंगे, ये देखना दिलचस्प होगा.

 

गौरतलब है कि नेत्रहीन क्रिकेट टीम में खिलाड़ियों का चयन तीन कैटेगरी में होता है. पहली कैटेगरी बी -1 होती है जिसमें पूरी तरह दृष्टिहीन 4 खिलाड़ी होते हैं. दूसरी कैटेगरी बी -2 होती है, जिसमें ऐसे 3 खिलाड़ी होते हैं जिन्हें 3 मीटर तक दिखाई देता है. तीसरी कैटेगरी होती है बी -3, जिसमें 4 ऐसे खिलाड़ी होते हैं जिन्हें लगभग 6 मीटर तक दिखता है.

रविवार को कोलकाता में हुए तीसरे वनडे में भले ही भारत की हार हो हुई हो लेकिन इंग्लैंड के एक बल्लेबाज के लिए यह मैच और सीरीज यादगार रहेगी. इंग्लैंड के ओपनर बल्लेबाज जेसन रॉय ने भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन पूरी सीरीज़ में भारतीय स्पिनर रवींद्र जडेजा के सामने वह बौने ही साबित हुए.

रवींद्र जडेजा ने तीनों मैचों में जेसन रॉय का विकेट लिया. जेसन रॉय ने कोलकाता वनडे में 65 रनों की पारी खेली और वह शानदार फॉर्म में चल रहे थे लेकिन हर बार की तरह वह इस बार भी वह जडेजा का शिकार रहे.

Photos

एडिटर ओपेनियन

दावोस: PM मोदी ने CEOs के साथ की बैठक, भारत के विकास और बिजनेस के अवसरों की 10 बातें

दावोस: PM मोदी ...

नई दिल्ली॥ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंग...

एसबीआई ने कमाया 12.35% का शुद्ध लाभ

एसबीआई ने कमाया...

मुंबई॥ देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टे...

इंफोसिस को जबरदस्त मुनाफा, शेयर में तेजी!

इंफोसिस को जबरद...

मुंबई।। इंफोसिस लिमिटेड ने इस वित्त वर्ष...

नैनो का CNG मॉडल लॉन्च, कीमत 2.52 लाख

नैनो का CNG मॉड...

मुंबई।। टाटा ने नैनो का सीएनजी मॉडल लॉन्...

Video of the Day

Contact Us

About Us

Udyog Vihar Newspaper is one of the renowned media house in print and web media. It has earned appreciation from various eminent media personalities and readers. ‘Udyog Vihar’ is founded by Mr. Satendra Singh.